रोमियन 16

1मइँ किंख्रिया क कलीसिया क बिसेख सेविका हमार बहिन फीबे क तोहसे सिफारिस करत हउँ 2कि तू ओका पर्भू मँ अइसेन रीतो स ग्रहण करा जइसेन रीति परमेस्सर क लोगन क बरे उचित बा। ओसे तोहसे जउन कछू अपेच्छित होइ सब कछू स तू ओकर मदद करा काहेकि उ मोरे समेत बहुतन क सहायक रही अहइ। 3प्रिस्का अउर अक्विल्ला क मोर नमस्कार। उ मसीह ईसू मँ मोर सहकर्मी अहइ। 4उ पचे मोर प्रान बचावइ बरे अपने जीवन क भी दाँव पे लगाइ दिहे रहेन। न केवल मइँ ओनकर धन्यबाद करत हउँ बल्कि गैर यहूदियन क सभन कलीसिया भी ओनकर धन्यबादी अहइँ। 5उ कलीसिया क भी मोर नमस्कार जउन ओनके घरे मँ इकठठ् होत ह। मोर पिआरा दोस्त इपैनितुस क मोर नमस्कार जउन एसिया मँ मसीह क अपनावइ वालन मँ पहिला बा। 6मरियम क, जे तोहार बहुत महत्वपूर्ण कार्यका अहइ, नमस्कार। 7मोर कुटुम्बी अन्द्रनीकुस अउर यूनियास क, जउन मोरे साथे कारागार मँ रहेन, अउर जउन प्रमुख धर्मप्रचारकन अउर जउन मोसे भी पहले मसीह मँ रहेन मोर नमस्कार। 8पर्भू मँ मोरे पिआरा दोस्त अम्पलियातुस क नमस्कार। 9मसीह मँ मोरे कार्यकर्ता उरबानुस अउर मोरे पिआरा दोस्त इस्तखुस क नमस्कार। 10मसीह मँ खरे अउ सच्चा अपिल्लेस क नमस्कार। अरिस्तुबुलुस क परिवार क नमस्कार। 11यहूदी साथी हेरोदियोन क नमस्कार। नरकिस्सुस क परिवार क लोगन क नमस्कार जउन पर्भू मँ अहइँ। 12त्रुफेना अउर त्रुफोसा क जउन पर्भू मँ मेहनती कार्यकर्ता अहइँ, नमस्कार। मोर पियार परसिस क, जे पर्भू मँ कठिन मेहनत किहे अहइ, मोर नमस्कार। 13पर्भू क असाधारण सेवक रूफुस क अउ ओनकी महतारी क, जउन मोर भी महतारी रही अहइ, नमस्कार। 14असुंक्रितुस, फिलगोन।, हिर्मेस, पत्रुबास, हिर्मोस अउर ओनके साथी बन्धुवन जउन ओनके साथ अहइँ क नमस्कार। 15फिलुलुगुस, यूलिया नेर्युस अउर ओकर बहिन उलुम्पास अउर ओनके सभन साथी सन्तन क नमस्कार। 16तू लोग पवित्तर चुंबन द्वारा एक दूसरे क स्वागत करा। तोहे सभन मसीही कलीसियन कइँती स नमस्कार। 17भाइयो तथा बहिनियो! मइँ तू पचन स पराथना करत हउँ कि तू पचे जउन सिच्छा पाया ह, ओकरे विपरीत तू सबन मँ जउन फूट डारत हीं अउर दूसर क बिसवास क बिगाड़त हीं। ओनसे होसियार रहा, अउर ओनसे दूर रहा। 18काहे कि इ लोग हमरे पर्भू ईसू मसीह क नाहीं बल्कि अपने पेट क सेवा करत हीं। अउ आपन खुसामद भरी चिकनी चुपड़ी बातन स भोला-भाले लोगन क मन को छलत हीं। 19तोहार आज्ञाकरितइ क चर्चा बाहर हर कीहीऊ तलक पहुँच चुकी बा। इही बरे तोहसे मइँ बहुत खुस हउँ। परन्तु मइँ चाहित हउँ कि तू नेकी के बरे बुद्धिमान बना रहा अउर बदी क बरे अबोध रहा। 20सान्ति क स्रोत परमेस्सर जल्दी ही सइतान क तोहरे गोड़न तले कुचर देइ। हमार पर्भू ईसू मसीह क तोह पे अनुग्रह होइ। 21हमार साथी कार्यकर्ता तीमुथियुस अउ मोर यहूदी साथी लूकियुस, यासोन अउर सोसिपत्रुस कइँती स तू सबन क नमस्कार। 22इ पत्र क लेखक मोका तिरतियुस क पर्भू मँ तू सबन क नमस्कार। 23मोर अउ समूची कलीसिया क आतिथ्य कर्ता गयुस क तू पचन क नमस्कार। इरास्तुस जउन नगर क खजांची अहइ अउ हमार बन्धु कबारतुस क तोहका नमस्कार। 24 25ओकर महिमा होइ जउन तोहरे बिसवास क अनुसार यानि ईसू मसीह क सुसमाचार क जउन सुसमाचार क मइँ घोषित उपदेस देइत ह ओकरे अनुसार-तोहे सुद्दढ़ बनावइ मँ समरथ अहइ। इ सुसमाचार उ गुप्त सत्य को अभिव्यक्त करत ह जेहका परमेस्सर युगन स छिपाय रखे रहा। 26परन्तु जेका अनन्त परमेस्सर क आदेस स नबियन क लेखन द्वारा अब हमका अउ गैर यहूदियन क परगट कइके बताइ दीन्ह गवा बा जेसे बिसवास स पैदा होइवाली आज्ञाकारिता पैदा होइ। 27ईसू मसीह क जरिये उ एक मात्र ज्ञानमय परमेस्सर क अनन्त काल तलक महिमा होइ। आमीन!

will be added

X\