मतà¥Âà¤¤à¥€~ 22:30

30तोहका समझइ चाही कि पुनरुत्थान मँ लोग न तउ बियाह करिहीं अउर न ही कउनो सादी मँ दीन्ह जाई। मुला उ पचे सरगे क दूतन क नाईं होइहीं।

Share this Verse:

FREE!

One App.
1599 Languages.

Learn More