पà¥Âà¤°à¥‡à¤°à¤¿à¤¤à¤¨ क काम 20

1फिन जब हुल्लड क सांत होइ गवा, एकरे पाछे पौलुस ईसू क चेलन क बोलाएस अउर ओनकइ हिम्मत बढ़ाइ दिहे क पाछे ओनसे बिदा लिहेस अउर मैसीडोनिया क चला गवा। 2उ पहँटा स होइके उ जात्रा किहेस अउर हुवाँ क मनइयन क उछाह क बचन बोलेस। फिन उ यूनान आइ गवा। 3उ हुवाँ तीन महीना रूका अउर काहेकि यहूदी लोग ओकरे खिलाफ एक षडयन्त्र रचे रहेन जब उ पानी क मारग स सीरिया क जाइवाला रहा कि उ निस्चय किहेस कि उ मैसीहोनिया क लौटि जाइ। 4बिरीया क पुर्रूस क बेटवा, थिस्सलूनीकिया क बसइया लोग अरिस्तर्खुस अउर सिकुन्दुस, दिरबे क निवासि गयूस अउर तिमुथियुस अउर एसिया क पहँटा क तुखिकुस अउर त्रुफिमुस ओकर साथ रहेन। 5इ पचे पहिले चला गवा रहेन अउर त्रोआस मँ हमका जोहत रहेन। 6बे खमीर क रोटी क दिनन क पाछे हम पचे फिलिप्पी स ऩाउ स चेलन अउर पाँच दिना क पाछे त्रोआस मँ ओनसे जाइ भेंटन। हुवाँ हम सात दिना तक ठहरेन। 7हपता क पहिले दिना जब हम पचे रोटी क तोड़इ बरे आपुस मँ बटुरेन तउ पौलुस ओनसइ बतियाइ लाग। ओका भियान ही चला जाइ क रहा तउ उ आधी राति तलक बातचीत करत रहा। 8सीढ़ी क ऊपर क खोली मँ जहाँ हम पचे बटुरा रहेन, हुवाँ ढेर क दिया धरा रहेन। 9हुवँइ यूतुखुस नाउँ क एक नौजवान खिड़की प बइठा रहा। ओका गहिर नींद चाँपे रही। काहेकि पौलुस ढेर बेला स बोलतइ चला जात रहा तउ ओका गहिर नींद आइ गइ। ऍहसे उ तीसरी मंजिल स तरखाले भहराइ पड़ा अउर जब ओका उठावा गवा तउ उ गुजर चुका रहा। 10पौलूस तरखाले उतरा अउर ओह पइ निहुरा। ओका आपन कोरा मँ लइके उ कहेस, “जिन घबराअ काहेकि ओकर प्राण उहइ मँ बा।” 11फिन उ ऊपर चला गवा अउर उ रोटी क तोरिके बाँटेस अउर खाएस। उ ओनकइ ढेर देर तलक, भिन्सारे ताई बतियात रहा। फिन उ ओनसे बिदा लिहेस। 12उ जिअत मनई क उ पचे घरे लइ आएन। ऍहसे ओनका बहोत चइन मिला। 13हम जहाजे प पहिले पहोंचेन अउर अस्सुस कइँती चल दिहेन। हुवाँ पौलुस क हम पचेन क जहाज बइठावइ क रहा। उ अइसी ही योजना बनए रहा। उ खुन पैदर आवइ चाहत रहा। 14उ जब अस्सुस मँ हम पचन स भेंटा तउ हम पचा ओका जहाजे प बइठावा अउर हम सबइ मितुलेने कइँती चल पड़ेन। 15दूसर दिन हम हुवाँ स चलिके खियूस क समन्वा जाइ पहोंचेन। अउर दूसर दिन ओह पार सामोस आइ गएऩ। फिन ओकरे एक दिन पाछे हम मिलेतुस आइ पहोंचेन। 16काहेकि पौलुस जहाँ तलक होइ सका पिन्तेकुस्त क दिन तलक यरूसलेम पहुँच जाइ क हाली करत रहा, तउ उ ठान लिहेस कि उ इफिसुस मँ बे रुके भए अगवा चला जाइ जेहॅसे ओका एसिया मँ समइ जिआदा न बितावइ पड़इ। 17उ मिलेतुस स इफिसुस क बुजुर्ग अउर कलीसिया क संदेसा पठइके आपन लगे बोलाएस। 18ओनकइ आए प पौलुस ओनसे कहेस, “इ तू सबइ जानत ह कि एसिया पहुँचइ क बाद पहिले दिन स ही हर समइ मइँ तोहरे संग कइसे रहत हउँ। 19अउर बड़ा दीन होइके आँसू टपकाइ टपकाइके यहूदी लोगन्क कुचाल क कारण मोह प कइउ परीच्छा मँ भी मइँ दीनता पूर्वक पर्भू क सेवा करत रहेउँ। 20तू पचे जानत बाट्या कि मइँ तोहका तोहरे भलाई क कउनो बाते स बतावइ मँ कबहुँ हिचकिचाएउँ नाहीं। अउर मैं तोहका ओन बातन क सबहिं मनइयन क बीच अउर घरे घरे जाइके उपदेस देइ मँ कबहुँ नाहीं झिझक्यों। 21यहूदियन अउर यूनानियन क मइँ बराबर क भाव स मनफिराव बरे, परमेस्सर कइँती मोड़इ बरे मँ कहत रहेउँ ह अउर हमार पर्भू ईसू मँ बिसवास बरे ओनका चिताउनी दिहेउँ ह। 22“अउर अब पवित्तर आतिमा क अधीन मँ मइँ यरूसलेम जात अहउँ मइँ नाहीं जानत हउँ हुआँ मोरे संग का कछू घटी। 23मइँ तउ सिरिफ ऍतना जानत हउँ कि हर सहर मँ पवित्तर आतिमा इ कहत भइ मोका चउकन्ना करत रहत ही कि जेल अउर घोर संकट मोका जोहात बाटेन। 24मुला मोरे बरे प्राण क कउनो कीमत नाहीं बा। मइँ तउ बस उ दौड़ धूप अउर उ सेवा क पूरा करइ चाहत हउँ जेका मइँ पर्भू ईसू स ग्रहण करेउँ ह, परमेस्सर क अनुग्रह क सुसमाचार क साच्छी देब। 25“अउर अब मइँ जानत हउँ कि तोहमाँ स कउनो भी, जेनकइ मँ मइँ परमेस्सर क राज्य क प्रचार करत घूमेउँ ह, मोर मुँह अगवा कबहुँ न लखि पाइ। 26यह बरे आजु मइँ तोहरे समन्वा गोहराइ के कहत हउँ कि तू सबन मँ स कउनो मँ स कोइ खोवाय जाइ त ओकर दोखी मइँ नाहीं अहउँ। 27काहेकि मइँ परमेस्सर क पूरी इच्छा क तोहका बतावइ क मँ मइ कबहुँ हिचकिचाएउँ नाहीं। 28आपन अउर आपन जात बिरादरी क देख भाल करत रहा। पवित्तर आतिमा ओहमाँ स तोहका ओन प चउकसी करइ बरे बनएस ह जेहसे तू परमेस्सर क कलीसिया क धियान राखा जेहसे उ आपन रकत क बदले बेसहे रहा। 29मइँ जानत हउँ कि मोरे बिदा होइ जाए क पाछे सिकारी बिगवा तोहरे बीच अइही अउर उ पचे इ भोला भाला झुंड क न छोरिहीं। 30हिआँ तलक कि तोहरे आपन बीच मँ स ही अइसेन मनई भी उठि जइहीं, जउन चेलन क पाछे लगाइ लेइ बरे बात क घुमाइ फिराइ क कइहीं। 31यह बरे होसियार रह्या। याद राखा कि मइँ तिन बरिस तलक एक एक क दिन रात रोइ रोइ क चिताउनी देब नाहीं तज्यों रहे। 32“अब मइँ तोहका परमेस्सर अउर ओकर सुसमाचार क अनुग्रह क हाथे अर्पण करत हउँ। उहइ तोहका बनइ सकत ह् अउर ओन मनइयन क संग जेनका पवित्तर कीन्ह गवा अहइ, तोहका बारिस बनइ सकत ह। 33मइँ कबहुँ कउनो क सोना-चाँदी या ओढ़ना क नाहीं ललचाएउँ ह। 34तू सबइ ही जानत ह मोर इ हथवन ही मोर अउर मोरे संगिन की जरूरत क पूरा किहेस ह। 35मइँ आपन हर करम स तोहका इ देखॉवा ह कि कर्री मेहनत करत भए हमका निर्बल क मदद कउने तरह करइ चाही अउर हमका पर्भू ईसू क बचन याद रखइ चाही जेहसे उ खुद कहे रहा, ‘लेइ स देइ मँ जिआदा सुख बा।’” 36इ कहि चुके क पाछे ओन सबन क संग उ घुटना क बल निहुरा अउर उ पराथना किहेस। 37हर कउनो भोंकारा मारिके रोवत रहा। मिलना मिलत भए उ पचे ओका चूमत रहेन। 38उ जउन इ कहे रहा कि पचे ओकर मुँहना फिन कबहुँ न लखिहीं, ऍहसे मनई जिआदा दुःखी रहेन। फिन उ पचे ओकर रच्छा करत भए जहाजे तलक पहोंचाइ दिहेन।

will be added

X\