1 पतरस~ 1

1पतरस कइँती स, जउन ईसू मसीह क प्रेरित अहइ, परमेस्सर क उ चुने भए लोगन क नाउँ जउन पुन्तुस, गलातिया, कप्पदुकिया, एसिया अउर बिथुनिया क छेत्रन मँ सब कहूँ फैले अहइँ। 2तू जेनका परमपिता परमेस्सर क पूर्व गियान क हिसाब स चुना गवा अहइ, जउन अपनी आतिमा क पवित्तर करइ जिनका ओनकइ आज्ञाकारी होइ खातिर अउर जेनपइ ईसू मसीह क लहू छिड़काव स पवित्तर कीन्ह जाइ क खातिर चुना गवा रहा तू पचन्क ऊपर परमेस्सर क अनुग्रह अउर सांति ज्यादा स ज्यादा होत रहइ। 3हमरे पर्भू ईसू मसीह क परमपिता परमेस्सर धन्य होइ। मरे भए मँ स ईसू मसीह फिन जिअइ क कारण स ओकर अपार करुणा मँ स सजीव आसा पावइ खातिर उ हमका नवा जनम दिहे अहइ। 4जेहिसे सरग मँ सुरच्छित ढंग स रखे भए अजर-अमर अउर जेनका नस्ट नाहीं कीन्ह जाइ सकत सरगे मँ तोहरे बरे सुरच्छित अहइ। 5जे आपन बिसवास दुआरा परमेस्सर स सुरच्छित अहइँ ओनका उ उद्धार जउन समइ क अंतिम कोना मँ प्रकट होइ क हइ, मिल जाइ। 6एह पइ तू बहुत प्रसन्न अहा। मुला अब तू पचन्क तनिक बरे खातिर तरह तरह क इम्तहान मँ पड़िके दुखी होब जरूरी अहइ। 7जेहिसे तू पचन्क जउन परखा नासवान भवा बिसवास अहइ, जउन आगी मँ परखा नासवान सोनो स ज्यादा कीमती अहइ, ओहका जब ईसू मसीह परगट होई, परमेस्सर स प्रसंसा महिमा अउर आदर मिलइ चाही। 8तू पचे ईसू मसीह क देखे नाहीं अहा, मुला तू पचे ओसे पिरेम करत अहा। चाहे तू पचे ओका दइ नाहीं पाए रह्या ह, मुला तबउ ओहमाँ बिसवास रखत अहा अउर एक अइसे आनन्द स भरा भवा अहा जउन कहइ लायक नाहीं अहइ एउर महिमावान अहइ। 9अउर तू पचे अपने बिसवास क कारण लच्छ तक पहुँच रहे अहा जेहसे आतिमा क तउ उद्धार होइ। 10इ उद्धार क बारे मँ उ नबियन बड़े मेहनत स पता लगाइन हइ अउर बड़ी हुसयारी स पता खोजेन हइ, जउन तउ प परगट होइवाले अनुग्रह क भविस्सबाणी क दिहे रहेन। 11उ नबियन मसीह क आतिमा स इ जानिन जउन मसीह प होइवाले दुःखन क बतावत रही अउर उ महिमा जउन दुःखन क बाद परगट होई। इ आतिमा ओनका बतावत रही। इ बातन इ दुनिया मँ कब होइहीं अउर तब इ दुनिया मँ का होइ। 12ओनका इ देखाइ दीन्ह गवा रहा कि उ बातन क प्रवचन करत भए उ पचे आपन सेवा खुदइ नाही करत रहेन बल्कि तोहार सबन्क करत रहेन। उ बतियन तू सबन्क सरग स पठए गए पवित्तर आतिमा क दुआरा तू पचन क ओन लोगन स जउन सुसमाचार मिला जे तोहरे बरे लिआवत रहेन। अउर उ बातन क जानइ क खातिर सरगदूतन तरसत अहइँ। 13इ खातिर आपन दिमाग काम क बरे तइयार रखा अउर अपने ऊपर नियंत्रण रखा। उ बरदान जउन ईसू मसीह क परगट अहइ प तू पचन्क मिलइवाला अहइ, पूरी असा रखा। 14आग्या मानइवाले बचवन क नाईं उ समइ क बुरी इच्छन क हिसाब स अपने क न ढाला जउन तू पचन मँ पहिले स रही जब तू पचे अग्यानी रह्या। 15बल्कि जइसे तू सबन क उ परमेस्सर जउन सबन्क बोलावत अहइ पवित्तर अहइ उहइ क तरह अपने करमन मँ पवित्तर बना। 16पवित्तर सास्तरन मँ लिखा अहइ: “पवित्तर बना, काहेकि मइँ पवित्तर अहउँ।” 17अउर अगर तउ प्रत्येक करमन क हिसाब स पच्छपात रहित होइके निआव करइवाले परमेस्सर क हे पिता! कहिके पुकारत अहा तउ उ परमेस्सर सबन क संग बिना भेद-भाव क निआव करत ह। तउ इ परदेसी धरती मँ अपने रहइ वाले दिनन क इज्जत अउर परमेस्सर क डर क संग बितावा। 18तू इ जानत अहा कि सोना या चाँदी जइसेन वस्तुअन स तू पचे उ व्यर्थ जीवन स छुटकारा नाही पाइ सकत अहा जउन तू पचन क तोहरे पूर्वजन स मिला बाटइ। 19बल्कि उ तउ तू पचन के निर्दोस अउर कलंक रहित मेमने क समान मसीह क कीमती लहू स तू सबन क मिला सकत ह। 20इ संसार क बनइ स पहिलेन ओहका चुन लीन्ह गवा रहा मुला तू पचे खातिर अन्तिम दिनन मँ परगट कीन्ह गवा ह। 21उ मसीह क कारण तू पचे उ परमेस्सर मँ बिस्सास करत रह्या जउन मरे भएन मँ स जियाइ दिहेस अउर महिमा दिहेस। इ तरह परमेस्सर मँ तोहारे आसा अउर बिस्सास स्थिर अहइ। 22अब तू सत्य क पालन करत भए, नीक भाईचारा अउर पिरेम क प्रदर्सित करइ खातिर अपने आतिमा क पवित्तर क लिहे अहा, पवित्तर हिरदय क साथ परस्पर पिरेम क आपन लच्छ बनाइ ल्या। 23तू नासमान क बीज स फिन स जीवन प्राप्त नाही किहा ह बल्कि इ उ बीज क परिणाम अहइ जउऩ अमर हइ। तोहार पुनर्जनम परमेस्सर क उ नीक सन्देस स भवा अहइ जउन जिअत अहइ अउर हमेसा अटल रहत ह। 24काहेकि पवित्तर सास्तर कहत ह, “प्राणी त सबइ घास बराबर अहइँ, अउर ओनके सज धज सब घास क फूलन जइसी, घास सब सूख जात ह अउर फूल उड़ जात ही। 25मुला टिका रहत ह परमेस्सर क इ संदेसा सदा हीं।” इ उहइ नीक संदेसा अहइ जेहका तोहका उपदेस दीन्ह गवा ह।

will be added

X\